फर्जी हाॅलमार्किंग : 35 रू लेकर 17 कैरेट सोने को 22 कैरेट बना रहे, ज्वैलर्स/हाॅलमार्किंग सेंटर

0
326

जयपुर-आप जब भी किसी ज्वैलरी शाॅप पर जेवर खरीदने जाते हैं तो शुद्धता की गारंटी मांगते है। ज्वैलर गारंटी के नाम पर हाॅलमार्क की मुहर दिखाकर कह देता है। फिक्र मत करो…………. लेकिन सावधान। यह गारंटी ही धोखा है। जयपुर के कुछ ज्वैलर्स और हाॅलमार्किंग सेंटर 35 रू से लेकर 150 रू लेकर 17 कैरेट से भी कम सोने की जूलरी पर फर्जी हालमार्किंग कर 22 कैरेट बना कर बेच रहे है।

Live MCX

यह खुलासा दैनिक भास्कर के रिपोटर्स ने स्टिंग आपरेशन करके किया। वे खूफिया कैमरा व माइक लगाकर कई ज्वैलरी शाप व हाॅलमार्किंग सेंटर पर गये। कहा-हमें हाॅलमार्किंग करवानी है। दुकान पर बैठे युवक ने पहले कुछ देर सोच-विचार के बाद कहा-कर देंगे। पैसे लगेंगे। पूछा कितने तो बोला-50 रू। फिर उसने सोने की एक अंगूठी पर बिना सोने की शुद्धता जांचे बीआईएस का लोगो, 22 कैरेट, 916 व ज्वैलर का नाम अंकित कर दिया। ज्वैलर्स के पास हाॅलमार्किंग सेंटर चलाने का लाईसेंस नहीं है। वैसे भी बीआईएस किसी ज्वैलर को यह लाईसेंस देता ही नहीं है।

यहीं हाल हाॅलमार्किंग सेंटर का भी है, सेंटर मालिक ने रिपोटर से बिना जानकारी मांगे व सोने की शुद्धता को बिना परखे 35 रू लेकर 22 कैरेट का निशान यानी 916 अंकित कर दिया। जबकि आभूषण में सोना 17 कैरेट था।

बिना लाइसेंस हॉलमार्किंग करना कानूनी अपराध

बीआईएस से बिना लाइसेंस आभूषणों पर हॉलमार्किंग करना अपराध है। ऐसे सेंटरों पर बीआईएस कार्रवाई करता रहता है। अभी दिल्ली में भी ऐसे सेंटरों पर रेड की गई थी। ऐसे में मामलों में बड़े आर्थिक दंड के साथ सजा का प्रावधान है।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here